Dadi-Dada ka Pyar

Ek Dada aur Dadi ki jodi ne

Ek Dada aur Dadi ki jodi ne
Ek Dada aur Dadi ki jodi ne jawani ke thik wayse
hi dino ko yaad karne ka faisla kiya..!!

Agle din dada phool lekar wahi Pahuche jaha
Wo Jawani me Mila karte the..

Waha khade-khade dada ke Pairo me dard ho gaya, viagra order
Lekin dadi nhi aayi..

Ghar ja kar dada gusse se: Aayi Kyon Nahi??
Daadi sharmate huye: Mummy Ne Nahi Aane Diya..!!

Dada-Dadi ka Pyar
Dada-Dadi ka Pyar

***************************
sadiyo ka bhara gyan hai

hamari sachchi saan hai
sadiyo ka bhara gyan hai

jo dikhte hai, dharti par
bujurg to bhagvaan hai

saath rahlo seva karlo
ye bas duao ki khan hai

ye he to vipdaye kam hai
har pal sukh saman hai

behadd he inme anubav

sujhavo ki khadaan hai

inke aaspass hone se hi

jivan me rahti jaan hai

inhe sachcha samaan mile

to ghar ho jata vardan hai

jo inko bas bojh samjhe

wah yuva bas naadan hai 

jaha inhe dutkaar mile

ghar nahi samsaan hai

dr shakuntala vyas


************************
inke sahaaron me raahai.n rahe.ngii

khwaabo.n ke par kabhii kaTne na denaa
inke sahaaron me raahai.n rahe.ngii

lage.nge ye lejaa rahe alag raste
un raston pe bhii kai seekhai.n to ho.ngii

ye seekhai.n hameshaa sameTe rakhnaa
inhii.n se to sabko manzil milai.ngii

*********************
दादा – दादी कितने प्यारे

दादा – दादी कितने प्यारे
हम इनकी आँखों के तारे
तन चांहे हो बूढ़ा इनका
पर होते जवान दिल वाले
मम्मी – पापा से भी ज्यादा
ये तो घर का ध्यान रखें
टोका – टाकी करते रहते
आदत से मजबूर बड़े
सुबह – शाम सैर को जाते
आकर हमें व्यायाम कराते
होम – वर्क में हांथ बटाकर
और बहुत सी सीख सीखाते
दोस्त भी ये ही बन जाते
जब कभी हम शोर मचाते
साथ हमारे खेला करते
केरम, लूडो और कराटे
खाने का इन्हे शोक बड़ा
जब मिल जाता है मौका
इनके साथ उठाते हम भी
 बारिश में चाय- पकोड़े का मजा
डांट से पापा की बचाते
जब गंदे मार्क्स आ जाते
पापा को समझकर कहते
भूल गया बचपन में तेरे
कुछ ऐसे ही नंबर थे आते
मुझको अपने दादा- दादी
सारी दुनिया से ज्यादा भाते
मन चाहता ये लोग कभी
हमें छोड़ के नहीं जाते

****************
Dada Ko Dadi Se Pyar Ho Gaya


Dada Ko Dadi Se Pyar Ho Gaya
Pehle Hi Din Mein Bukhar Ho Gaya
Dhoosre Din Dono Pagal Hue
Theesre Din Inthiqaal Ho Gaya

**********************
अपने दादा और दादी की है तूं जमीं

अपने दादा और दादी की है तूं जमीं
तूं है सबसे जुदा तूं है सबसे हसीं
जाने किस – किस की चौखट की है तूं दुआ
छु न पाए कोइ गम तुझको कभी
अपने दादा और दादी की है तूं जमीं…..

काजल नजरों का अपनी लगाऊँ तुझे
ले के गोदी में लोरी सुनाऊं तुझे
बुरी नजर न लगे जमानें की तुझको
ऐसे आंचल में अपने छुपाऊँ तुझे
गूंजे आंगन मेरा तेरी किलकारी से-
आख़िरी दम तक सुनूं बस तेरी ही हंसी
अपने दादा और दादी की है तूं जमीं….

रुख हवायें जो बदलें तो डरना नहीं
आँधियों में भी हम तेरे साथ हैं
हम रहें न रहें, न गम करना कभी
साथ तेरे हमारा आर्शीवाद है
नाम युगों तक रहे तेरा संसार में
धुंधली आँखों की बस आरजू है यही
अपने दादा और दादी की है तूं जमीं
तूं है सबसे जुदा तूं है सबसे हसीं,तूं है सबसे जुदा तूं है सबसे हसीं…

****************
zamane se darr kar teri tasveer toilet mein chupa rakhi hain
,

dada dadi aur nana nani ke zamane ka sher kal kisi ne mujhe sunaya,
aadab arz hai

zamane se darr kar teri tasveer toilet mein chupa rakhi hain,
deedar ho baar baar isliye julaab ki goli kha rakhi hain. :lol:  :lol:  :lol:

****************
pyārī pyārī merī daadī 


pyārī pyārī merī daadī 

mujh ko kahtī hai shahzādī 

mere sau naḳhre sahtī hai 

merī fikr use rahtī hai 

jo bhī māñgo so detī hai 

ek nahī vo do detī hai 

mujhe manā kar ḳhush hotī hai 

varna ġhusse meñ rotī hai 

mujhe koī jo maare chaT se 

DaañT use detī hai jhaT se 

mujh se duur nahī rah saktī 

vo ye baat nahī sah saktī 

karam ḳhudā kā hai ye be-shak 

us kī ā.ankhoñ kī huuñ ThanDak 

ambar par taare haiñ jitne 

yaad use haiñ qisse utne 

dil kī baat kahūñgī mil ke 

nazm 'farāġh'-uncle kar deñge 

********************

Dadi maa Se Kehna Wahi Kahani Sunaye Hum Ko,
Wo Baadshah Jo Ishq Mein Mazdoor Ho Gaya.....!!

***********************
एकदम सच्ची, पूरी पक्की


आओ तुम्हें मैं एक बात बताऊं,
एकदम सच्ची, पूरी पक्की
दादी माँ होती हैं ,
घर की नींव एकदम पक्की |

कमर झुका कर थीं वो चलती,
धीमी सी थीं उनकी चाल
दुबला-पतला शरीर था उनका ,
थे सर पे चमकते सफ़ेद बाल |

जब भी मैं परदेस से घर को आता,
उसके पास जाकर था मैं बैठता
कुछ उनसे अपनी मैं कहता,
कुछ उनकी था मैं सुनता |

अपने मन में यह सोच रहा,
खूब बड़ा बन जाऊ मैं
दादी की सेवा करके ,
जीवन को सफल बनाऊं मैं |

माना की उसकी उम्र थी पकी ,
लेकिन मेरी दादी नहीं थी थकी |

जीवन में तुम हमेशा अपनी दादी की सेवा करना,
फिर अपनी जेबें तुम उनकी दुआओं से भरना |

कमर झुका कर थीं वो चलती,
धीमी सी थीं उनकी चाल
दुबला-पतला शरीर था उनका ,
थे सर पे चमकते सफ़ेद बाल |

No comments

Thanks for visite me...